Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

यही वह जगह है

Syndicate content यही है वह जगह
काशी विश्वविद्यालय और बनारस पर
Updated: 13 hours 18 min ago

निजता पर लोहिया (2)

Wed, 06/09/2017 - 09:19

… अब आखरी सवाल रह जाता है दखल वाला कि जीवन के ऐसे कुछ दायरे होने चाहिए कि जिनमें राज्य का,सरकार का,संगठन का,गिरोह का ,दखल न हो।जिस तरह हमारे जमीन की बेदखालियाँ हो जाती हैं,उसी तरह सरकार और राजनीतिक पार्टियां हमारे जीवन में बेदखालियाँ कर डालती हैं।कभी-कभी सोशलिस्ट पार्टी के लोगों के मन में भी आ जाया करता है कि वे व्यक्ति के जीवन में बेदखलियाँ शुरू कर दें।मान लो आदमी सार्वजनिक पैसा खा लेता है तो उसमें दखल देना समझ में आता है। लेकिन मान लो कोई आदमी है,मिसाल देने में झंझट भी खड़ी हो जाती है,कई लोग तिलमिला उठेंगे, पुरानी धारणाएं हैं इस कारण।वह मिसाल न लेकर हम दूसरी मिसाल लेंगे।जैसे,जब यह निश्चित हो जाए कि कोई आदमी मरने ही वाला है,एक नहीं कई डॉक्टर इस नतीजे पर पहुंच जाते हैं,तो क्या उस आदमी को यह अधिकार होना चाहिए कि वह कोई ऐसी सूई लगवा कर खत्म हो जाए और डॉक्टर का ऐसी सूई देना उचित है क्या? विशेष रूप में,ऐसी बीमारी में,जिसमें महीनों ही नहीं,बरसों रगड़ा लगता है,जिसमें बीमार ही नहीं,उसके घर वाले भी तबाह होते हैं । ऐसी चीज को दया-हत्या बोलते हैं।दया-हत्या का ऐसा दायरा है जिस पर सोच विचार करना चाहिए।मैं अपनी कोई आखिरी राय नहीं दे सकता।लेकिन आत्महत्या के बारे में तो मेरी पक्की राय है की हर मर्द-औरत को हक़ होना चाहिए कि वह अपनी जान ले ले।इसमें दूसरे को दखल देने का क्या हक है।लेकिन कई देशों में इसके खिलाफ कानून बने हुए हैं।अगर आत्महत्या करने में कोई सफल हो जाए तब तो ठीक है,और अगर असफल हो जाए तो ऐसा सिलसिला चलता है कि क्या कहने।बहुत कम ऐसे बेवकूफ जज होंगे जो दो-चार महीने की सजा दे दें।

इस मिसाल के अलावा और भी हैं जैसे घर मे कैसे रहें,शादी-विवाह के मामले-इन सबको लेकर राजनैतिक पार्टियों और सरकार को दखल नहीं देना चाहिए।किस राजनैतिक पार्टी में कोई रहे ,सरकार के नौकर भी,इसमें भी दखल नहीं होना चाहिए।ये कुछ बातें मैंने सिर्फ गिना दी हैं।असल में इन्हें उदाहरण स्वरूप ही लेना।इनके पीछे तर्क या सिद्धांत यह है कि व्यक्ति के जीवन में राज्य या राजनैतिक पार्टी को दखल देने का हक नही होना चाहिए ।हर एक व्यक्ति को एक हद तक अपने जीवन को अपने मन के मुताबिक चलाने का अधिकार होना चाहिए।हो सकता है कि वह उस अधिकार का दुरुपयोग करे।लेकिन जब उस अधिकार को मान लेते हैं और दुरुपयोग होता है तो क्या कर सकते हैं,सिर्फ अपना मुंह मटका के रह जाओ और क्या किया जा सकता है? उस पर ज्यादा चर्चा भी नहीं करनी चाहिए। समाज का गठन वैसा बन जाएगा तो उस पर चर्चा भी बहुत नहीं होगी।यूरोप के देशों में इन सब चीजों पर लोग चर्चा भी नहीं किया करते और कहीं करते भी हैं तो सैद्धांतिक तौर पर कर करा लिया करते हैं।रूस और अमेरिका का मुकाबला करें तो,मुक़ाबलतन,ऐसा नहीं कि रूस को मैं कोई प्रमाणपत्र दे रहा हूँ,रूस अच्छा है।अमरीका और फ्रांस भी इस दखल वाले मामले में अच्छे हैं।


Filed under: Uncategorized

समूह के हस्तक्षेप से निजी जीवन की रक्षा / डॉ लोहिया

Tue, 05/09/2017 - 20:11

…सातवीं क्रांति का लक्ष्य समूह के हस्तक्षेप से व्यक्ति के निजी जीवन की रक्षा करना है। संगठन लगातार व्यक्ति की स्वतंत्रता का अपहरण करता रहा है।इसका यह मतलब नहीं कि व्यक्ति के महत्त्व और कल्याण में जरूरी तौर पर कमी आई है।वास्तव में उसका महत्व भी बढ़ा है,हालत भी सुधरी है,खास तौर पर उन्हीं इलाकों में जहां स्वतंत्रता में कमी आई है।व्यक्ति का कल्याण और सुख,शिक्षा और स्वास्थ्य,और उसका आराम भी,दरअसल उसके जीवन और विचार का बड़ा हिस्सा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का विषय बन गया है।यह नियोजन साम्यवादी देशों में अधिक कठोर है, लेकिन संगठनात्मक बाध्यता का एक तत्व हर जगह मौजूद है।व्यक्ति की स्वतंत्रता की क्रांति पर विचार करते हुए हमें भलाई के लिए आयोजन संबंधी अपने युग की ख़ासियत को ध्यान में रखना चाहिए।

सरकारी आयोजन का लक्ष्य हमेशा भलाई करना ही होता है।उसमें अगर कोई बुराई पैदा होती है तो अनिच्छित और प्रासंगिक परिणाम के रूप में।इस बुराई की जड़ बाध्यता में होती है।जब लोगों को मजबूर किया जाता है कि वे बुरे की जगह अच्छे को चुनें, तो अनिवार्य ही उसके कुछ बुरे परिणाम निकलते हैं।अच्छाई के विभिन्न प्रकार होते हैं और उनमें अलग अलग प्राथमिकताएं होती हैं।लेकिन इसके अलावा,क्या अच्छा है और क्या बुरा,यह बात हमेशा इतनी साफ नहीं होती जितनी योजनाएं बनाने वाले सोचते हैं।इसके अतिरिक्त सुरुचि,विवेक,ज्ञान और समझ का विकास ज्यादा अच्छा होता है जब चुनाव करने और गलती करने की आजादी होती है।जिन देशों में सरकारी नियोजन नही है,वहां निजी मुनाफे के संगठनों के भी लगभग वैसे ही परिणाम निकलते हैं।वरण की सारी घोषित स्वतंत्रता के बावजूद,जिन देशों में सरकारी नियोजन नहीं है,वहां भी शिक्षा,सूचना और मनोरंजन एक खास स्वीकृत दायरे के अंदर ही रहते हैं।इसके अलावा,इनका ज्यादा और नीचा एयर एकरसता-भर स्तर ही आमतौर पर चलता है।लक्ष्य चाहे मुनाफा हो या कोई आदर्श,संगठन व्यक्ति को बाध्य करते हैं।यद्यपि इससे इनकार करना व्यर्थ है कि तानाशाही बाध्यता ज्यादा गहरी और चतुराई भरी होती है।

भलाई करने का संगठित प्रयत्न हमारे युग की खासियत है।जो बिल्कुल पूंजीवादी समाज हैं,उनमें भी किसी प्रकार वे बेकारी भत्ते या बीमारी-बीमे की व्यवस्था जरूरी हो गई है।जिन क्षेत्रों या उद्योगों की ओर निजी पूंजी आकर्षित नहीं होती,उनमें राज्य का पूंजी लगाना भी काफी आम बात हो गई है।इसलिए ऐसा माना जा सकता है कि भलाई के उद्देश्य से नियोजन और बढ़ेगा।इसके साथ निजी जीवन में हस्तक्षेप भी बढ़ेगा।

क्या निजी हैऔर क्या सार्वजनिक इसकी परिभाषा करना आसान नहीं है।बहुत कुछ देश और पीढी की मान्यताओं पर निर्भर होता है।लेकिन बाध्यता और सार्वजनिकता के वातावरण से अलग स्वतंत्रता और निजता के वातावरण को पहचानना उतना मुश्किल नहीं।

सोवियत रूस में जो इस समय हो रहा है,वह इस संदर्भ में एक प्रवृत्ति के रूप में महत्वपूर्ण है।आज संगीत और अमूर्त चित्रकला की संगठन द्वारा जितनी आलोचना होती है,उतना ही कुछ निजी क्षेत्रों में उनकी लोकप्रियता बढ़ रही है।कवि और उपन्यासकार गाने या रोने की स्वतंत्रता माँग रहे हैं।किसी दिन ये सभी क्षेत्र निजी मान लिए जाएंगे जिन्हें राज्य या संगठन के हस्तक्षेप से बचाया जाए।इसके साथ ही संपत्ति सबंधी कुछ रूढ़ धारणाओं में भी ढीलापन आ रहा है।

गोरे लोगों के बीच यही असली बहस चल रही है।उनमें जो लोकतंत्र के समर्थक हैं उनका आग्रह है कि व्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को स्वीकार करने पर किसी-न-किसी रूप में निजी संपत्ति और उसके पुरस्कार को भी मान्यता देने होगी।लेकिन तर्क की दृष्टि से संपत्ति और व्यक्ति-स्वातंत्र्य के बीच कोई सीधा संबंध आवश्यक नही प्रतीत होता।व्यवहार में संपत्ति के साम्यवादी स्वामित्व के फलस्वरूप बच्चे पैदा करने से लेकर भाषण देने तक सभी प्रकार के संबंधों में निजी जीवन में हस्तक्षेप हुआ है।अतः ख़तरे के ये संकेत हमेशा रहेंगे।निजी जीवन और स्वतंत्रता के अधिकार को उन सभी क्षेत्रों में स्वीकार करना होगा जिनका संपत्ति से कोई सीधा संबंध नहीं है।आधुनिक जीवन में पारस्परिक संबंध दरअसल इतने पेचीदा हैं कि सीधी या सरल परिभाषाओं से काम नहीं चल सकता।मिसाल के लिए घरेलू प्रबंध या मनोरंजन में निजी जीवन की स्वतंत्रता का संपत्ति की व्यवस्था पर अप्रत्यक्ष प्रभाव पड़ सकता है।तब क्या किया जाए? हमें जोखिम उठाने को तैयार रहना चाहिए।मिसाल के लिए संपत्ति की व्यवस्था अगर प्रभावित नही होती ,तो इस आधार पर निजी जीवन मे हस्तक्षेप की इजाजत नहीं मिलनी चाहिए कि निजी संपत्ति की भावना को प्रोत्साहन मिलता है।

(यह लेख डॉ लोहिया की अंग्रेजी किताब ‘ मार्क्स,गांधी एन्ड सोशलिज्म’ की भूमिका से उनके निकट साथी ओमप्रकाश दीपक द्वारा अनुदित है।लेख उन्होंने 1963 में लिखा था।अनुवाद 1970 में प्रकाशित हुआ।लोहिया का यह अंतिम लेख है।)


Filed under: Uncategorized

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)