Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya

Syndicate content अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya
The Informal Blog of a Computational Linguist
Updated: 3 hours 15 min ago

Math Warriors 21C

Thu, 29/06/2017 - 20:45

Human Beings

Tue, 27/06/2017 - 22:27
We are all human beings. … Are we? Are you sure of that?

The Other Side of Solidarity

Mon, 12/06/2017 - 00:16
Solidarity is — more often than not — a lynch mob.

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)