Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

कुछ विचार ऐसे भी -----

Syndicate content
Updated: 9 hours 47 min ago

मुर्दों को इंसाफ़ कहाँ मिलता है

Fri, 12/05/2017 - 09:03
क़ातिल ने कहा
वह इंसाफ़ करेगा
तुम्हें न्याय देगा
क़ातिल जानता है
शव न सुनता है 
न बोलता हैमुर्दों को इंसाफ़ कहाँ मिलता है !क़ातिल मुस्कुराता है
वह देखता नहीं अपना चेहरा किसी आईने में |

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

Wed, 08/03/2017 - 12:56
गाँव में एक बहुत बड़ा तालाब था | उसमें तरह -तरह के जीव रहते थे . उस तालाब में एक बहुत बड़ा मेढक भी रहता था | बहुत ही बड़ा | पूरे तालाब में उसका आतंक था . बड़ी -बड़ी मछलियाँ भी अब उस मेढक से डरने लगी थी . 
कुछ समय पहले उस बड़े मेढक ने तालाब के जीवों को डराने के लिए अपनी टीम के साथ आतंक मचाया था |
तब से उस तालाब में खौफ का मौहल है | किन्तु इस बीच कुछ जलीय जीवों ने यह तय किया कि वे डरकर नही सम्मान के साथ जियेंगे और अन्याय का विरोध करेंगे| तो तालाब में मुखिया के चुनाव के लिए चुनाव कराया गया | 
मेढक को पूरा विश्वास था कि सबसे ज्यादा जीव उसके समर्थन में मतदान करेंगे | ठीक उसी समय तालाब का सबसे बुजुर्ग कछुआ सामने आया और मेढक के विरुद्ध में खड़ा हो गया | तालाब चुनाव आयोग ने कहा अब निर्णय वजन के हिसाब से लिया जायेगा . मेढक खुश था कि उसके साथ मेढकों की पूरी टीम है और दूसरी तरफ अकेला कछुआ |
तराजू मंगवाया गया एक तरफ कछुआ और दूसरी तरफ सभी मेढक | भार मापने के लिए तराजू को ऊपर उठाया गया . ठीक उसी समय किसी ने बाहर से पानी में कुछ चारा फेंका | 
सभी मेढक एक -एक कर तराजू से कूद गये ! कछुआ का पलड़ा भारी हो गया . मेढक को बड़ी शर्म आई !
उस दिन से वह तालाब छोड़ एक नाली में जाकर रहने लगा|

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)