Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

अमित सेनगुप्त

Amit Sengupta

हम सब एक टाइम बम पर बैठे हुए हैं

मुकदमे की कानूनी जांच किये बिना आप किसी को फांसी कैसे दे सकते हैं?

Syndicate content

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)