Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

हैरॉल्ड पिंटर

Harold Pinter

कला, सच और राजनीति

हैरॉल्ड पिंटर

07 दिसंबर, 2005

1958 में मैने यह लिखा था:

"कोई चीज़ सच या झूठ में से एक ही हो ऐसा कोई ज़रूरी नहीं है; एक ही चीज़ सच और झूठ दोनों एक साथ हो सकती है। वास्तविक और अवास्तविक के बीच कोई ठोस अंतर नहीं है, ना ही जो सच है और जो झूठ है उसके बीच।"

मेरा मानना है कि ये बातें कुछ मायने रखती हैं और अब भी कला के द्वारा वास्तविकता की खोज पर लागू होती हैं। इसलिए एक लेखक होने के नाते तो मैं इनका समर्थन करता हूँ पर बतौर एक नागरिक मैं ऐसा नहीं कर सकता। एक नागरिक के तौर पर मुझे पूछना पड़ेगा: सच क्या है? झूठ क्या है?

Syndicate content

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)