Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

पीपुल्स संवाददाता

छात्रों को बांधा रेडियो कॉलर!

पीपुल्स संवाददाता

वाशिंगटन/नई दिल्ली। अमेरिका की ट्राई वैली यूनिवर्सिटी में भारतीय छात्रों को जबरदस्ती रेडियो कॉलर पहनाए जाने की खबर है। इधर, भारत ने इस घटना को ‘अनुचित’ बताते हुए इसे तुरंत हटाने की मांग की है। तेलुगु एसोसिएशन आफ नॉर्थ अमेरिका के प्रेसीडेंट ने टीवी चैनल को मामले की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी के तकरीबन 20 हिंदू छात्रों को रेडियो कॉलर पहनाया गया है। साथ ही अमेरिकी अधिकारियों ने उनसे पूछताछ भी की है।

भारत ने बताया अनुचित- भारत सरकार ने भारतीय छात्रों पर रेडियो कॉलर लगाने की घटना को ‘अनुचित’ बताते हुए इसे हटाने की मांग की है। सरकार ने कहा कि वह कैलिफोर्निया स्थित ट्राई वैली यूनिवर्सिटी (टीवीयू) के भारतीय छात्रों के खिलाफ संघीय अधिकारियों की कार्रवाई के प्रभाव पर ‘गंभीर रूप से चिंतित’ है। विदेश मंत्रालय ने भारत स्थित अमेरिकी दूतावास के उप प्रमुख डोनाल्ड लियू को बुला कर उनसे कहा कि छात्रों के साथ अच्छा व्यवहार होना चाहिए और उन्हें उनकी स्थिति को स्पष्ट करने के लिए पर्याप्त मौका दिया जाना चाहिए।

‘ छात्रों को परेशानी न हो’- अमेरिका में भारतीय दूतावास ने ट्राई वैली विवि के आव्रजन घोटाले के कारण भारतीय छात्रों को हो रही परेशानी को गंभीरता से लेते हुए मामले को अमेरिकी विदेश मंत्रालय और संबंधित विभागों के समक्ष उठाया है। कैलीफोर्निया की एक कोर्ट में दायर संघीय शिकायत में कहा गया है कि विवि ने विदेशी नागरिकों को अवैध रूप से आव्रजन स्थिति प्राप्त करने में मदद की।


(पीपुल्स समाचार से साभार)

Syndicate content

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)