Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

जॉर्ज मॉन्बिऑट

George Monbiot

ब्रिटेन के भुला दिए गए हत्याकांड

साम्राज्य के ज़ुल्मों के बारे में इतने कम लोग क्यों जानते हैं?

जॉर्ज मॉन्बिऑट

27 दिसंबर, 2005

तुर्की उपन्यासकार ओर्हान पामुक के मुकद्दमे के बारे में रिपोर्टें पढ़ते हुए दो बातों पर आपका खास ध्यान जाता है। पहली तो खैर देश के पुरातन कानूनों की निर्ममता है। पामुक पर, ढेर सारे अन्य लेखकों और पत्रकारों की तरह, "तुर्कीपन की तौहीन" करने के लिए मुकद्दमा चलाया जा रहा है, जिसका मतलब है कि उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान किए गए आर्मेनियाई हत्याकांड और पिछले दशक के दौरान हुई कुर्दों की हत्याओं का ज़िक्र करने का साहस किया। यह दूसरी बात उस देश की अविश्सनीय बेवकूफी है

Syndicate content

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)