Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

गिरीश मिश्र

मिस्र से उठी जम्हूरी हवा!

गिरीश मिश्र

उम्मीद-आशंकाओं के बीच : ट्यूनीशिया से शुरू हुई जनविद्रोह की धमक ने मिस्र को पूरी तरह से अपने आगोश में ले लिया है. मिस्र में जिस तरह से राजधानी काहिरा, सुएज, अलेक्जेंडिन्या समेत अनेक शहरों में लाखों लोग सड़कों पर रैली की शक्ल में उतरे और राष्‍ट्रपति हुस्नी मुबारक के तीन दशक के शासन के खात्मे की मांग की, उसने दुनिया भर में अनेक सर्वसत्तावादी तानाशाही तंत्रों को भयभीत कर दिया है.

खबर है कि जार्डन के राजा अब्दुल्लाह ने भी अपने प्रधानमंत्री रिफाई को हटा दिया है. उनकी जगह पूर्व जनरल और सैन्य सलाहकार मारुफाल बखीत को नया प्रधानमंत्री बनाया है और शासन में अनेक सुधारों की बात कही है. फलस्तीन में भी नए चुनाव कराने की बात शासन स्तर पर उठ रही है. वहां पांच साल पहले चुनाव हुए थे. सीरिया में भी फेसबुक और ट्विटर पर राष्‍ट्रपति असद की मुखालफत शुरू हो गई है और राजधानी दमिश्क में विरोध मार्च की चर्चा सुर्खियों में है. ट्यूनीशिया के राष्‍ट्रपति के सऊदी अरब भागने के बाद से ही पड़ोसी राष्‍ट्र अल्जीरिया, यमन में भी गरीबी, तानाशाही, भ्रष्टाचार, कुव्यवस्था के विरोध के साथ ही लोकतांत्रिक आजादी की मांग जोर पकड़ रही है. लेबनान और अन्य देश भी इस जम्हूरी हवा के असर से अछूते नहीं हैं. लेकिन ये तो रही पड़ोसी देशों की बात, दिलचस्प तो ये है कि चीन, रूस और ईरान जैसे तानाशाही तंत्र भी अब सकते में हैं. चीन में वेब पर नियंत्रण और बढ़ा दिया गया है. ईरान में 2009 में राष्‍ट्रपति अहमदीनेजाद के फिर राष्‍ट्रपति बनने पर हुए जन विरोध को फिर से हवा मिल गई है. आगामी 12 फरवरी को वहां भी छात्रों की रैली का आयोजन है. इसी तरह रूसी राष्‍ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन को हटाए जाने की आवाज रूस में भी उठनी शुरू हो गई है.

Syndicate content

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)