Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

Forums

Forum Topics Posts Last post
बतौर पाठक या बतौर अनुवादक आप जो भी सुझाव देना चाहें इस प्रयास को बेहतर बनाने के लिए।
0 0 n/a

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)