Increase |  Decrease |  Normal

Current Size: 100%

Share this
Syndicate content

विलियम ब्लेक

William Blake

लंदन

विलियम ब्लेक

["ब्लेक राजनीतिज्ञ नहीं थे, पर 'मैं हर पट्टे पर ले ली गई गली में भटकता हूँ' जैसी कविता में पूंजीवादी समाज की उससे ज़्यादा समझ है जितनी तीन-चौथाई समाजवादी साहित्य में है" - ऑर्वेल चार्ल्स डिकेन्स पर उनके एक लेख में]

Syndicate content

लेखक विषय संवाद साभार अनुवादक

पहले वो आए साम्यवादियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं साम्यवादी नहीं था

 

फिर वो आए मजदूर संघियों के लिए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं मजदूर संघी नहीं था

 

फिर वो यहूदियों के लिए आए

और मैं चुप रहा क्योंकि मैं यहूदी नहीं था

 

फिर वो आए मेरे लिए

और तब तक बोलने के लिए कोई बचा ही नहीं था

 

मार्टिन नीमोलर (1892-1984)